Tuesday, May 6, 2008

A Thought..

रग रग मे बस् ने वाले ही दुख् ती रग बन जाते है..

No comments: