Thursday, January 15, 2009

ख्याल्

क्या जानती थी..

दिल से लफज़ों की जत्तोजहत होगी
सवाल उठें और मौन से उनका जवाब मैं दूँगी.

1 comment:

vandana said...

bhaut sahi kaha aapne